About Us

Indian Council of Food and Agriculture is an apex think tank for addressing policy issues concerning farmers, food and agro industries. ICFA is serving as global platform for trade facilitation, partnerships, technology, investments and agribusiness services. A proactive approach helps ICFA in discerning critical challenges emerging in Indian agriculture along with creating opportunities for development, value addition and international trade to augment farmers’ growth and farm revenue. Industry oriented Working Groups and sector specific Councils ICFA represent the interests of key stakeholders at the national level and through international platforms and partnerships it facilitates global engagement and positions India’s food and agriculture sector prominently on the world map.

For enhanced sustainability, food safety and quality standards, ICFA has taken up the Agriculture Stewardship Program by launching Healthy Food Initiative program and India Good Agriculture Practices (IndGAP). In a short period of two years, the Council has signed up MoUs with the University of California, University of Maryland, Michigan State University, Iowa State University, Western Australia University, German Agribusiness Alliance, Borlaug Institute for South Asia, African Asian Rural Development Organization and IFPRI etc. Through international partnerships, ICFA envisions to mobilise technologies and investments that will catalyse agribusiness and agri start-ups. The 20 Member ICFA Board has distinguished luminaries and eminent industrialists with Prof MS Swaminathan as its Patron.

भारतीय खाद्य एवं कृषि परिषद ( आईसीएफए ) एक सर्वोच्च विचारक मंडल है जो कृषि, खाद्य और कृषि उद्द्योग से संबंधित नीतिगत मुद्दों को संबोधित करने के लिए कार्यरत है। व्यापार सुविधा, साझेदारी, प्रौद्योगिकी, निवेश और कृषि व्यवसाय सेवाओं के लिए आईसीएफए एक वैश्विक मंच के रूप में स्थापित है। एक सक्रिय दृष्टिकोण के साथ आईसीएफए ने किसानों की आय में वृद्धि और उनके विस्तृत विकास की कल्पना की है और अंतरराष्ट्रीय व्यापार के प्रोत्साहन हेतु अवसर स्थापित कर रहे हैं । आईसीएफए के उद्योग आधारित कार्य समूह और जिला, राज्य, राष्ट्र स्तरीय परिषद, प्रमुख हितधारकों के हित और कल्याण का प्रतिनिधित्व करते हैं तथा भारतीय खाद्य और कृषि क्षेत्र को विश्व के नक़्शे पर प्रमुखता से प्रक्षेपित करते हैं।

वर्धित स्थिरता, खाद्य सुरक्षा और गुणवत्ता मानकों के लिए, आईसीएफए ने भारत की उत्तम कृषि प्रथाओं (इंडजीएपी) को प्रक्षेपित करके कृषि पदोन्नति कार्यक्रम शुरू किया है। दो वर्षों की एक छोटी अवधि में, परिषद ने कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी, मैरीलैंड विश्वविद्यालय, मिशिगन स्टेट यूनिवर्सिटी, आयोवा स्टेट यूनिवर्सिटी, वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया यूनिवर्सिटी, जर्मन एग्रीबिजनेस एलायंस, दक्षिण एशिया के लिए बोरलाग संस्थान, अफ्रीकी एशियाई ग्रामीण विकास संगठन और आईएफपीआरआई इत्यादि के साथ समझौतों पर हस्ताक्षर किए। अंतर्राष्ट्रीय भागीदारी के माध्यम से, आईसीएफए उन प्रौद्योगिकियों और निवेशों को कार्यप्रवृत्त करता है जो कृषि व्यवसाय और कृषि शुरूआत को उत्प्रेरित कर सकें। प्रतिष्ठित विशेषज्ञों एवं प्रख्यात उद्योगपतियों के २० सदस्यीय आईसीएफए मंडल के संरक्षक, विश्व विख्यात कृषि वैज्ञानिक, प्रोफेसर एमएस स्वामिनाथन हैं ।